Breaking News
Home / राजनीती / हिन्दूस्तान को पकिस्तान बनाने के लिए,योजनाबद्द तरीके से बढाई जा रही है मुस्लिम आबादी :भागवत

हिन्दूस्तान को पकिस्तान बनाने के लिए,योजनाबद्द तरीके से बढाई जा रही है मुस्लिम आबादी :भागवत

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) के प्रमुख मोहन भागवत (Mohan Bhagwat) का बयान एक बार फिर से चर्चा में है। इस बार उन्होंने देश में मुस लमानों की आबादी, CAA और NRC को लेकर बयान दिया है। इन मुद्दों पर बात करते हुए उन्होंने बताया कि कैसे सोच समझकर भारत को पाकिस्तान (Pakistan) बनाने के लिए 1930 से ही मुस लमानों की जनसंख्या को बढ़ाया गया। इसके साथ ही उन्होंने CAA को लेकर कहा कि भारत (India) के मुस लमानों को इस कानून से कोई हानि नहीं है। कुछ लोग अपनी राजनीतिक रोटियां सेंकने के लिए इसको धार्मिक रंग देने की कोशिश कर रहे थे।

योजनाबद्ध तरीके से बढ़ाई गई मुस लमानों की संख्या

संघ प्रमुख मोहन भागवत (Mohan Bhagwat) ने देश के विभा जन को याद करते हुए कहा कि उस समय दोनों देशों ने अपने यहां अल्पसंख्यकों का ध्यान रखने का वादा किया था। भारत (India) अभी भी अपने वादे पर कायम है। जबकि पाकिस्तान (Pakistan) में अल्पसंख्यकों का क्या हाल है। यह किसी से छिपा नहीं है। आगे उन्होंने बताया कि 1930 से ही कैसे भारत में मुस लमानों की आबादी बढ़ाई गई। उनका मानना था कि आबादी बढ़ाकर पहले वर्चस्व कायम करेंगे। फिर भारत (India) को पाकिस्तान (Pakistan) बनाने की कोशिश करेंगे। खासकर पंजाब, सिंध, असम और बंगाल के बारे में उनकी यही सोच थी। वह पूरी तरह से कामयाब तो नहीं हुए, लेकिन पाकिस्तान बना।

मोहन भागवत ने CAA को लेकर कही बड़ी बात

मोहन भागवत (Mohan Bhagwat) ने अपने बयान में CAA को लेकर कहा कि इस कानून से किसी भी भारतीय मुस लमान को कोई नुक सान नहीं। कुछ राजनीतिक लोग अपने लाभ के लिए इस कानून पर सवाल खड़े कर रहे है।

DNA वाला बयान भी रहा चर्चा में

इससे पहले संघ प्रमुख मोहन भागवत (Mohan Bhagwat) ने कुछ समय पहले हिंदू और मुस लमानों के डीएनए को एक बताया था। उनका यह बयान सुर्खियों में बना रहा। उनके इस बयान को भी धर्म के चश्मे से देखा गया। हाल ही में CAA पर दिये बयान को भी ऐसे ही देखा जा रहा है।

Check Also

इस बार मुहर्रम पर नहीं निकलेगा ताजिया और जुलूस

हमारे देश में कई ऐसे त्योहार है जो हर साल बड़े धूम धाम से मनाये …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *